3 थाना इंचार्ज को वसूली करते पकड़ने वाले सीओ सिटी का आरोप- एसपी अजय की शह पर हो रहा सबकुछ


अवैध बजरी खनन में वसूली को लेकर धौलपुर पुलिस के अफसर आमने-सामने हो गए हैं। हाल ही स्टिंग ऑपरेशन में 3 थाना प्रभारियों व एक ट्रैफिक इंचार्ज को वसूली करते पकड़ने वाले सीओ सिटी दिनेश शर्मा ने मंगलवार को डीजीपी को पत्र भेजा। इसमें आरोप लगाया कि एसपी अजय सिंह की शह पर ही वसूली हो रही है। वे भ्रष्ट पुलिसकर्मियों को संरक्षण दे रहे हैं। पत्र भेजने के बाद शर्मा ने फोन रिसीव करना बंद कर दिया। उधर, स्टिंग में फंसे पुलिसकर्मियों का आरोप है कि सीओ सिटी अवैध बजरी खनन के वाहनों को छुड़वाते थे।

इसकी शिकायत उन्होंने लिखित में एसपी अजय सिंह से भी की थी। सीओ सिटी जिस स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर उन्हें भ्रष्ट बताने की कोशिश कर रहे हैं, उसमें कहीं भी पैसों की वसूली या लेन-देन की बात नहीं है, बल्कि पिस्टल जरूर दिख रही है। उधर, सीओ सिटी दिनेश शर्मा ने मंगलवार को डीजीपी को पत्र भेजकर कहा कि एसपी अजय सिंह की शह पर ही अवैध वसूली का खेल चल रहा है। वे भ्रष्ट पुलिसकर्मियों को जान-बूझकर संरक्षण दे रहे हैं। इस बीच, सीओ सिटी के समर्थकों ने एक मैसेज वायरल किया है। इसमें सीओ को स्वच्छ छवि का ईमानदार व्यक्ति बताते हुए एसपी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक और एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक की मिलीभगत से अवैध वसूली के आरोप लगाए गए हैं। बता दें कि सीओ सिटी दिनेश शर्मा ने हाल ही एक स्टिंग कर कोतवाली थाना प्रभारी नवल किशोर, निहालगंज थाना प्रभारी विनोद कुमार, सदर थाना प्रभारी विजय सिंह व ट्रैफिक इंचार्ज युधिष्ठर को बजरी वाहनों से अवैध वसूली करते पकड़ा था।
आरोप है कि स्टिंग के दौरान एक एएसआई भंवर सिंह ने सीओ सिटी पर रिवॉल्वर भी तान दी थी। इस बीच, कुछ पुलिसकर्मियों का कहना है कि सागरपाड़ा चौकी पर अवैध बजरी खनन वाले वाहनों से वसूली का मामला नया नहीं है। स्टिंग में फंसे पुलिसकर्मियों का आरोप है कि गत 4 जून को जब मध्य प्रदेश की ओर से आ रहे एक ट्रक को रोक कर पूछताछ की गई तो सीओ सिटी ने न केवल उन्हें धमकाया, बल्कि ट्रक भी अपने परिचित का बताकर छुड़वा दिया। इसके बाद ही सीओ सिटी ने डिकॉय ऑपरेशन, स्टिंग आदि सभी कर डाले और वहां तैनात सभी पुलिसकर्मियों को भ्रष्ट साबित करने का प्रयास किया। यहां तक कि उन्होंने अपने ही एसपी और एएसपी तक को आरोपों के लपेटे में ले लिया। एएसआई भंवर सिंह ने 14 जून को एसपी कार्यालय में एक परिवाद देकर आरोप लगाया था कि सीओ सिटी अपने रीडर भूपेंद्र के जरिए 50 हजार रुपए की मंथली मांग रहे हैं। इसकी जांच कर रहे एएसपी ने बताया कि सीओ को इस मामले में बयान देने के लिए कई बार बुलाया गया। लेकिन, वे नहीं आए। उल्लेखनीय है कि हाल ही डकैत जगन गुर्जर की तलाश में धौलपुर पुलिस बीहड़ों की खाक छान रही थी। तब सीओ सिटी दिनेश शर्मा ने रात्रि के समय बीहड़ों में रुकने से यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि उनकी तबीयत खराब है और पुलिस में वे अकेले ही अफसर थोड़े ही हैं। पुलिस के वाट्सएप ग्रुप में लिखा गया उनका यह मैसेज सोशल मीडिया में भी वायरल हुआ था। बाद में सीओ सिटी ने अपना बयान सुधारते हुए कहा था अब उनकी तबीयत ठीक है और वे बीहड़ों में ही रुके हैं।

सीओ आरोप क्यों लगा रहे हैं, वही बताएंगे : एसपी 
एसपी अजय सिंह ने कहा- सागरपाड़ा चैकपोस्ट पर तैनात पुलिसकर्मियों ने दो बार परिवाद दिए थे। सीओ सिटी ने भी उन पुलिसकर्मियों की शिकायत की थी। सीओ सिटी को जांच के निर्देश दिए थे। उनकी जांच के बाद पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर किया। इसके बावजूद वे क्यों आरोप लगा रहे हैं, यह तो वे ही बता सकते हैं।