बैंककर्मी कल 30 आैर 31 मई से दो दिनों की हड़ताल पर



सरकारी बैंक कर्मचारी संघों ने भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के वेतन में मामूली दाे फीसदी की बढोतरी के प्रस्ताव और अन्य मांगों को लेकर कल से दो दिनों की हड़ताल पर रहेंगे जिससे बैंकिंग गतिविधियां प्रभावित होंगी। इसी बीच बैंकों ने अपने ग्राहकों से डिजिटल तरीके से भुगतान करने अपील की है। यूनाइटेड फोरम आॅफ बैंक यूनियन्स ने गत 11 मई को कहा था कि उसके ज्ञापन पर सरकार की ओर से कोई जबाव नहीं और आईबीए के वेतन में दो फीसदी की मामूली बढ़ोत्तरी के प्रस्ताव पर फिर से विचार करने के संबंध में कोई आश्वासन नहीं मिलने के कारण 30 आैर 31 मई को राष्ट्र व्यापी बैंक हड़ताल की चेतावनी दी गयी थी।

इसबीच देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने शेयर बाजार को सूचित किया है कि हड़ताल की वजह से परिचालन प्रभावित होने की आशंका है क्योंकि उसके कर्मचारी भी यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के सदस्य हैं। ऑल इंडिया स्टेट बैंक ऑफिसर्स फेडरेशन और ऑल इंडिया स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्टॉफ फेडरेशन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के सदस्य है। बैंक ऑफ महाराष्ट्र के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविंद्र पी मराठे ने आज जारी बयान में कहा कि 30 और 31 मई को विभिन्न बैंक-कर्मचारी संगठनों द्वारा राष्ट्रव्यापी हड़ताल बुलाई गई है, जो उनके बैंक की शाखाओं में सामान्य बैंकिंग सेवाओं को बाधित कर सकती है।

उन्होंने इसके मद्देनजर अपने ग्राहकों से संव्यवहारों के लिए यूपीआई, महामोबाइल ऐप तथा इंटरनेट बैंकिंग जैसे डिजिटल बैंकिंग सुविधाओं का अधिकतम उपयोग करने की अपील करते हुये कहा है कि डिजिटल बैंकिंग सिस्टम और एटीएम ग्राहकों की सुविधा के लिए हर समय उपलब्ध और कार्यरत हैं। बैंक यूनियन्स आईबीए द्वारा उनकी मांगों की अनेदखी करने, बैंककर्मियों के वेतन पुनरीक्षण में सरकार की उदासीनता, आईबीए के मात्र दो फीसदी की वेतन वृद्धि की पेशकश सहित कई अन्य मांगों को लेकर हड़ताल करने की चेतावनी दी है।