सुरक्षा जो वापस ली है, वो सही नहीं है : यादव

केंद्र सरकार ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव की ज़ेड प्लस सिक्योरिटी हटा ली है जिसके बाद सियासी विवाद खड़ा हो गया है. इस फ़ैसले पर नाराज़गी दिखाने के चक्कर में लालू के बेटे भाषा की मर्यादा भी लांघ बैठे. ‘कसाब की फांसी के बाद जब मैं उनके गांव पहुंची’ मोदी का आक्रामक प्रचार और वोटकटवा चालें

जब मीडियाकर्मियों ने इस बारे में सवाल उठाया तो लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा, ”सुरक्षा जो वापस ली है, वो सही नहीं है. हमारा कार्यक्रम है और लालूजी भी कार्यक्रमों में जाते रहते हैं. तो ये मर्डर कराने की साज़िश की जा रही है.”

उन्होंने आगे कहा, ”उन्हें हम मुंहतोड़ जवाब देंगे. नरेंद्र मोदी की खाल उधड़वा लेंगे.” नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं, ऐसे में क्या इस तरह की भाषा इस्तेमाल करना सही है, इसके जवाब में उन्होंने कहा, ”हमारे पिता को कुछ होगा, तो आप ज़िम्मेदारी लेंगे. कौन इसकी ज़िम्मेदारी लेगा. हमारे पिता की जान, जान नहीं है.”

तेज ने कहा, ”पर्सनल लेवल पर अगर वो हमला कर रहे हैं तो हम इससे डरने वाले नहीं हैं. बिहार की जनत इन्हें उखाड़ फेकेंगे.”

लालू यादव ने भी इस फ़ैसले की आलोचना की है. उन्होंने कहा है, ”अगर नरेंद्र मोदी ये समझते हैं कि मैं डर जाऊंगा, तो ऐसा नहीं है. सभी लोग, यहां तक कि बिहार का बच्चा-बच्चा मेरी सुरक्षा करेगा.”

रविवार को उनका नाम उन वीवीआईपी की सूची से हटा दिया गया था जिन्हें ज़ेड प्लस सिक्योरिटी दी जाती है. ये नेताओं को मिलने वाली अधिकतम सुरक्षा है.

तेज प्रताप हाल में एक और ख़बर को लेकर चर्चा में रहे थे. बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने उन्हें अपने बेटे की शादी का न्योता दिया था.

इस पर उन्होंने कहा था कि अगर वो शादी में जाएंगे तो सुशील मोदी पर हमला करेंगे. मोदी ने सुरक्षा कारणों के चलते शादी के समारोह स्थल में बदलाव की भी बात कही थी.

और फिर तेज प्रताप ने कहा कि भाजपा नेता को बिना किसी डर के तय योजना के हिसाब से कार्यक्रम आयोजित करना चाहिए. भाजपा ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

SHARE