सबसे अशुभ माना गया हैं मंदिर की इस वस्तु को



हर घर में एक छोटा सा मंदिर होता है, कुछ लोग घरो में लकड़ी का मंदिर रखते है तो कुछ लोग संगमरमर का मंदिर बनवाते है। अक्सर आपने कई घरो में देखा होगा कि कई मंदिरो में गुम्बद देखने को मिलता है। लेकिन क्या आप जानते है कि मंदिरों में गुम्बद बनवाना या रखना सही नहीं होता है इसे शुभ नहीं माना जाता है। वहीं शास्त्रानुसार भी मंदिरों में गुम्बद अशुभ माना गया है।

शास्त्रों के मुताबिक पूजा घर के अन्दर रखे जाने वाले मन्दिरों में गुम्बद नहीं होना चाहिए। ऐसा माना गया है कि जिन मन्दिरों में गुम्बद बनाया जाता है उसके ऊपर कलश और ध्वजा चढ़ाना जरुरी है। इसके अतिरिक्त मंदिरों के कलश और झण्डा को खुले आसमान के नीचे होना महत्वपूर्ण है । ये भी बोला गया है कि मंदिर के कलश और ध्वजा से ऊंचा कुछ भी नहीं होना चाहिए ।

ऐसा बोला जाता है कि अगर आप मंदिर में न आकर अगर दूर से ही कलश या गुन्बद का दर्शन कर प्रणाम कर लें तो आपकी दुआ जल्द ही कुबूल हो जाती है । इसलिए बोला जाता है कि घरों के अंदर रखें मंदिर में गुन्बद नहीं होना चाहिए क्योंकि वैदिक परम्परा में जहां तक मन्दिर के कलश और ध्वजा के दर्शन होते रहते हैं उतना एरिया धर्मक्षेत्र के अन्तर्गत आता है । कलश या गुन्बदकेदर्शनकर ही मन प्रसन्न हो जाता है ।