परीक्षा के समय एकाग्रता सम्बन्धी समस्याओं से निजात पाने के लिए अपनाएं ये वास्तु टिप्स



सामान्य रूप से, छात्र अक्सर अध्ययन करते समय और विशेष रूप से परीक्षा के समय एकाग्रता सम्बन्धी समस्याओं का सामना करते हैं। उनके साथ ऐसा अक्सर रिवाइज करते समय होता है। ऐसे कई विद्यार्थी है जो बहुत मेहनत कर के बाद भी परीक्षा में अधिक अंक प्राप्त नहीं कर पाते है। आज हम आपको इस तरह की समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ ज्योतिषीय और वास्तु टिप्स बताने जा रहे है।

अधिक अंक प्राप्त ना करना  – यह सभी विद्यार्थियों की सामान्य समस्या है। वे बहुत अध्ययन करते हैं लेकिन उनकी अपेक्षाओं के अनुसार अंक प्राप्त नहीं करते हैं या वे पढाई के दौरान जो भी सीखते है उसे परीक्षा के दौरान भूल जाते हैं। कुछ ऐसे लोग भी हैं जो अपनी पढ़ाई में बिल्कुल भी ध्यान केंद्रित नहीं कर सकते हैं। वास्तु शास्त्र उन विद्यार्थियों के लिए आसान तकनीक देता है जो न केवल उन्हें बेहतर ध्यान देने में मदद करते हैं, बल्कि उन्हें अधिक अंक स्कोर करने में भी सक्षम बनाता है।

आपके घर में स्टडी रूम उत्तरी या पश्चिमी दिशा में होना चाहिए। पढाई करते समय, आप को पूर्वी या उत्तरी दिशा का सामना करना चाहिए। सर्वोत्तम एकाग्रता के लिए, आपको स्टडी रूम में नीले या हरे रंग का रंग इस्तेमाल करना चाहिए। लाभकारी परिणाम प्राप्त करने के लिए स्टडी रूम का दरवाजा उत्तर-पूर्वी दिशा में होना चाहिए। स्टडी रूम में लगे हुए दर्पण को रात में कवर किया जाना चाहिए।

स्टडी रूम – इस बात का ध्यान रखें कि स्टडी टेबल दीवार से दूर है; टेबल के सामने खुली जगह नए विचारों, दृष्टिकोण और तेज स्मृति को प्रोत्साहित करती है छात्र के पीछे कोई दरवाजा नहीं होना चाहिए। एक सुखद चित्र या पोस्टर रखने से स्टडी रूम में शांत वातावरण बनता है। स्टडी टेबल साफ और बहुत सारे किताबों और लेखों के साथ भरी हुई नहीं होनी चाहिए। स्टडी रूम में रोशनी चमकदार होनी चाहिए, लेकिन यह आपकी आंखों के लिए बहुत कठोर नहीं चाहिए। एकाग्रता को उत्साहित करने के लिए, स्टडी टेबल पर लैंप को बाईं तरफ रखा जाना चाहिए।