आज चंद्र दर्शन करने से रहेगा क्रोध पर नियंत्रण


मंगलवार 17.04.18 वैशाख शुक्ल द्वितीया चंद्रमा की पूजा का दिन माना जाता है।
शुक्ल पक्ष की द्वितीया को भगवान शंकर देवी गौरी के समीप होते हैं, अतः शिव पूजन, रुद्राभिषेक, पार्थिव पूजन व विशेष रूप से चंद्र दर्शन व पूजा करना शुभ रहता है। दूज पर चंद्रमा के दर्शन व पूजा करने से मनोविकार से मुक्ति, क्रोध पर नियत्रण तथा सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

पूजा विधि – शाम के समय चंद्रमा की पूजा 16 चीजों से करें। गाय के घी का दीपक जलाएं, कर्पूर जलाए, सफ़ेद फूल, चंदन, चावल, व इत्र चढ़ाएं, खीर का भोग लगाएं व पंचामृत से चंद्रमा को अर्घ्य दें तथा पूजा के बाद भोग सुहागन स्त्री में बांट दें।

चंद्र पू जा मुहूर्त – शाम 6:45 बजे से शाम 7:45 बजे तक।

चंद्र दर्शन मुहूर्त – शाम 7:00 बजे से शाम 8:00 बजे तक।

मंत्र – ॐ शीतांशु विभांशु अमृतांशु नम:॥ इस मंत्र का जाप करें।

उपाय

  • चंद्रमा को दूध-शहद से अर्घ्य देंने से क्रोध पर नियत्रण पाया जा सकता है।
  • पानी में छाया देखकर चंद्रमा पर चढ़ाने से मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है।
  • चंद्रमा पर चांदी का सिक्का चढ़ा कर तिजोरी में रखने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है।