इनकम टैक्स कमिश्नर के लिए मांगी दो लाख रुपए की रिश्वत, दलाली कर रहा आईटी प्रेक्टिशनर गिरफ्तार


भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने गुरुवार को शहर में बड़ी कार्रवाई करते हुए इनकम टैक्स कमिश्नर के लिए रिश्वत ले रहे आईटी प्रेक्टिशनर दलाल को गिरफ्तार कर लिया। 50 हजार रुपए की रिश्वत की यह रकम चैक के जरिए परिवादी से ली जा रही थी। इस चैक को आरोपी के कब्जे से बरामद किया है। यह कार्रवाई महानिदेशक एसीबी आलोक त्रिपाठी के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक कोटा रेंज सुधीर चौधरी के पर्यवेक्षण में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कोटा ठाकुर चंद्रशील कुमार के नेतृत्व में हुई। मामले में सह आरोपी इंकमटैक्स कमिश्नर भूमिगत हो गया।

परिवादी को 57 लाख की रिकवरी में राहत देने के लिए मांगी दो लाख की रिश्वत, पहली किश्त में लिया चैक

  1. एएसपी चंद्रशील ठाकुर ने बताया कि पार्श्वनाथ विहार, कुन्हाड़ी, कोटा निवासी गिरफ्तार आरोपी वीरेंद्र कुमार जैन मारवाड़ा है। वह इंकमटैक्स प्रेक्टिशनर्स है। वहीं, रिश्वत के इस केस में एसीबी ने आयकर आयुक्त (अपील) अमरीश बेदी को भी सह आरोपी बनाया है। वह मूल रुप से जयपुर में शास्त्री नगर के रहने वाले है।
  2. इस संबंध में परिवादी ने लाडपुरा निवासी भरतकुमार कुशवाह ने एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया कि उनके माताजी के खाते की जमीन विक्रय की थी। जिसकी स्क्रूटनी प्रोसेडिंग इनकमटैक्स विभाग में चल रही थी। जिसकी टैक्स लाइबिलिटी पैनल्टी करीब 57 लाख की निकाली गई थी।
  3. इस संबंध में परिवादी भरतकुमार ने कोटा में आयकर आयुक्त (अपील) अमरीश बेदी के कार्यालय में अपील की। इस अपील में सुनवाई कर फैसला भरत कुमार के पक्ष में करने की एवज में अमरीश बेदी व आईटी प्रेक्टिशनर वीरेंद्र कुमार जैन ने भरतकुमार से दो लाख रुपए की रिश्वत मांगी। इसमें पहली किश्त में बिना नाम का 50 हजार का चैक मांगा। एसीबी टीम ने सत्यापन के बाद गुरुवार को ट्रेप रचा।
  4. इसके बाद परिवादी ने 50 हजार रुपए की रिश्वत के रुप में एक खाली चैक पर स्वहस्ताक्षरित अमाउंट भरकर बिचौलिए की भूमिका निभा रहे सीए वीरेंद्र कुमार जैन को दिया। इस पर एसीबी की टीम ने दलाल वीरेंद्र जैन को धरदबोचा। पूछताछ में वीरेंद्र जैन ने यह चैक सह आरोपी आयकर आयुक्त अमरीश बेदी के लिए लेना और उन्हें ऑफिस में ले जाकर देने का खुलासा किया।
  5. तब एसीबी टीम गिरफ्तार घूसखोर वीरेंद्र जैन को लेकर आयकर आयुक्त (अपील) अमरीश बेदी के कार्यालय पर पहुंची। तब पता चला कि अमरीश बेदी अवकाश लेकर कहीं चले गए है। ऐसे में वह पकड़े नहीं जा सके। एसीबी की यह कार्रवाई पुलिस निरीक्षक अजीत बगडोलिया, पुलिस निरीक्षक दलबीर सिंह फौजदार, सत्येन्द्र सिंह, भरत सिंह और मनोज कुमार की टीम ने की।