दो साल पहले हुई थी एक साल के बच्चे की मौत, तंत्र-मंत्र के जरिए आत्मा लेने अस्पताल पहुंचे परिजन


कोटा शहर के एमबीएस अस्पताल में सोमवार को दो साल पहले मर चुके एक बच्चे की आत्मा को ले जाने का अंधविश्वास का नजारा देखने को मिला। ग्रामीणों बाकायदा अस्पताल परिसर में पूजा अर्चना की। ओर मृतक आत्मा को अपने साथ ले गए। करीब आधे घण्टे तक अस्पताल परिसर में अंधविश्वास का खेल देखने को मिला। इस दौरान लोगो की भारी भीड़ लगी रही। बाद में, पुलिस ने इन लोगों को वहां से भगा दिया।

जानकारी के अनुसार बूंदी के हिंडोली कस्बा के चेता गांव निवासी एक साल के बालक की दो साल पहले एमबीएस अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। बालक की मौत के बाद से उसके परिवार के सदस्यों की तबियत खराब रहने लगी। घर में अशांति होने पर परिजनों ने भोपे (देवता) की शरण ली।

तब भोपे ने मृतक की आत्मा अस्पताल में भटकने की बात कही। इसके उपाय के लिए अस्पताल से आत्मा लाने की सलाह दी। इसी के चलते करीब दो दर्जन महिला-पुरुष  सोमवार को बच्चे की आत्मा लेने एमबीएस अस्पताल पहुंचे। जहां भोपे ने अस्पताल के पुराने आउटडोर के पास परिजनों से बाकायदा पूजा अर्चना करवाई।

इस दौरान पुलिस कर्मी व अस्पताल के सुरक्षा गार्ड भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने परिजनों से समझाइस की और अस्पताल के अंदर जाने से मना कर दिया। इसके बाद उन्हें गेट से हटाकर दूर भेज दिया। इध दौरान मृतक बच्चे के परिजनों के साथ आई महिलायें अस्पताल के गेट के बाहर आत्मा की शांति के लिए गीत गाती रही। यह घटना क्रम करीब आधे घण्टे तक चला। इसके बाद परिजन मृतक की आत्मा लेकर चले गए।