उद्धव ठाकरे ने 18 सांसदों के साथ रामलला के दर्शन किए, मोदी से राम मंदिर बनाने की मांग की


शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के साथ पार्टी के 18 सांसदों ने रामलला के दर्शन किए। उनके बेटे आदित्य ठाकरे भी साथ रहे। यह उद्धव का सात महीने में अयोध्या का दूसरा दौरा है। इस दौरान उद्धव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जल्द राम मंदिर बनवाने की मांग की। उद्धव ने कहा कि राम मंदिर शिवसेना ही नहीं, बल्कि देश के हिंदुओं की आस्था का प्रश्न है।

उद्धव ने मोदी पर विश्वास जताते हुए कहा कि अब राम मंदिर निर्माण में देरी की गुंजाइश नहीं। उन्होंने विश्वास जताया कि आने वाले संसद अधिवेशन के बाद सकारात्मक परिणाम मिलेगा। उद्धव ने कहा, ‘सोमवार से लोकसभा सत्र शुरू होने जा रहा है। इसमें शामिल होने से पहले शिवसेना के सभी सांसद भगवान राम से आशिर्वाद लेने आए हैं। मुझे उम्मीद है राम मंदिर जल्दी ही बनेगा।’ वहीं, शिवसेना नेताओं के अयोध्या दौरे को प्रशासन ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की।

शिवसेना अध्यक्ष 24 नवंबर को पत्नी रश्मि और बेटे आदित्य के साथ दो दिवसीय दौरे पर अयोध्या पहुंचे थे। यहां उन्होंने सरयू की आरती और तिरपाल में बैठे रामलला के दर्शन किए थे। उद्धव ने कहा था कि चुनाव में सब राम-राम करते हैं, फिर आराम करते हैं। उन्होंने कहा था कि 2019 में सरकार बने या नहीं बने, लेकिन मंदिर जरूर बनना चाहिए। केंद्र सरकार अध्यादेश लाए, हम मदद करेंगे।

राम मंदिर निर्माण की प्रतिबद्धता को मिलेगी मजबूती 
शिवसेना ने एक बयान में कहा है कि लोकसभा चुनाव के बाद इस यात्रा के जरिए अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्धता को और मजबूती मिलेगी। ठाकरे की अयोध्या यात्रा से पहले पार्टी नेता संजय राउत उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर चुके हैं। योगी ने ठाकरे और शिवसेना के सांसदों को राज्य अतिथि का दर्जा दिया है।

राम को धन्यवाद देने आ रहे ठाकरे

दौरे से पहले उत्तरप्रदेश शिवसेना के अध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा था कि लोकसभा चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे कई धार्मिक स्थानों पर दर्शन के लिए गए थे। अब चुनाव में पार्टी के अच्छे प्रदर्शन के बाद वह अयोध्या जाकर पूजा-अर्चना करेंगे। उनकी अयोध्या यात्रा लोकसभा चुनाव में पार्टी के शानदार प्रदर्शन के बाद भगवान राम का धन्यवाद करने के लिए है। ठाकरे ने चुनाव में जीत मिलने के बाद अयोध्या दोबारा आने की बात कही थी।