बशीरहाट में भाजपा कार्यकर्ताओं के शव ले जा रहे वाहनों को रोका गया, पुलिस से झड़प हुई


कोलकाता. उत्तर 24 परगना जिले के बशीरहाट में भाजपा कार्यकर्ताओं के शवों को पार्टी दफ्तर ले जा रहे वाहनों को रविवार को सुरक्षाबलों ने रोक लिया। इसके बाद भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प भी हुई। बशीरहाट में शनिवार शाम दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं में झंडा हटाने को लेकर विवाद हुआ था। हिंसा में भाजपा के पांच और तृणमूल के एक कार्यकर्ता के मारे जाने की खबर है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हिंसा पर ममता सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

भाजपा ने कहा कि हमने पूरे बंगाल में कल 12 घंटे के लिए बंद बुलाया है। हम इसे कालादिन की तरह मनाएंगे। भाजपा पुलिस की भूमिका को लेकर कोर्ट तक जाएगी। मृतकों के शरीर को अंतिम संस्कार के लिए उनके पैतृक गांव ले जाया जा रहा है। इससे पहले भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, मुझे विश्वास है कि इस घटना को केंद्र गंभीरता से लेगा। लोगों के बीच में हिंसा को लेकर गुस्सा है।

तृणमूल के गुंडों ने हत्या की- भाजपा

भाजपा नेता मुकुल रॉय ने आरोप लगाया कि बशीरहाट के संदेशखली में तृणमूल के लोगों ने चार भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी। रॉय ने कहा- तृणमूल के गुंडों ने हमारे कार्यकर्ताओं पर हमला किया। हमारे 4 लोगों को गोली मार दी गई। तृणमूल नेता और ममता बनर्जी क्षेत्र में आतंक फैलाने में शामिल हैं। हमने गृह मंत्री अमित शाह, कैलाश विजयवर्गीय और राज्य के अन्य नेताओं को इस बारे में जानकारी दे दी है।

उन्होंने बताया कि हिंसा वाले क्षेत्र में सांसदों की एक टीम जाएगी और शाह को रिपोर्ट भेजेगी। लोकसभा चुनाव के दौरान भी दोनों पार्टियों के बीच में हिंसा की घटनाएं देखी गईं। दोनों पार्टियां एक दूसरे पर हिंसा फैलाने का आरोप लगाती रही हैं।

अपहरण के बाद तृणमूल कार्यकर्ता की हत्या
तृणमूल ने भी एक कार्यकर्ता की हत्या का दावा किया है। पार्टी के वरिष्ठ राज्य मंत्री ज्योतिप्रियो मलिक ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने अपहरण के बाद तृणमूल समर्थक कयूम मुल्ला की गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के वक्त कयूम तृणमूल की बैठक में हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे।