पूजा करते समय अगर करते है ये गलतियां देती है दरिद्रता को निमंत्रण



हमें पूजा करते समय कुछ कार्यों को नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह दरिद्रता को निमंत्रण देते है। हमारे हिंदू धर्म नियमित तौर पर पूजा-पाठ करने का विधान होता है। माना जाता है कि प्रतिदिन पूजा-पाठ करने से घर में सुख-शांति वास होता है। आस-पास का वातावरण शुद्ध बना रहता है। पूजा-पाठ करते समय कुछ खास बातो का ध्यान रखना चाहिए। तो आप को बताते है पूजा-पाठ करते समय किन बातो का खास ध्यान रखना जरुरी होता है।

पूजा करते वक्त कुछ जरुरी बातो का कुछ जरुरी बातो को हम ध्यान नही देते है इससे घर मे बिमारी दरिद्रता आर्थिक परेशानिया आ जाती है। ऐसे मे जो सबसे जरुरी चीज है वो है अगरबत्ती पूजा में जो अगरबत्ती प्रयोग मे लाते है ध्यान रखे वो बास की बनी न हो । कभी भी पूजा में बास से बनी अगरबत्ती का प्रयोग नही करना चाहिए। अगरबत्ती केवल खूशबु के लिए नही जलानी चाहिए, अगरबत्ती का सही चयन नही किया जाय तो यह घर मे दरिद्रता और गरीबी लेकर आता है। ऐसे में ध्यान रहे बास से बनी अगरबत्ती कभी ना ले। अगरबत्ती को देख ले तभी आप उसे खरीदे।

पूजा में जब दीपक को जलाने लिए माचिस का प्रयोग करते है उसे भी कभी फूक मारकर नही बुझाना चाहिए। धर्म शास्त्रो मे ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से घर की लक्ष्मी रुठ जाती है । उस घर में माता लक्ष्मी का कभी वास नही होता। सबसे जरुरी बात कभी दीपक को दीपक से नही जलाना चाहिए, अक्सर हम क्या करते है कि जब हमे कोई दीपक जलाना होता है तो जो हमने पहले दीपक जलाया होता है उसी से दुसरा दीपक जला लेते है।

परन्तु शास्त्रो के अनुसार ऐसा नही करना चाहिए। माना जाता है कि जब पूजा घर में एक दीपक से दुसरा दीपक जलाया जाता है तो उस घर में बीमारीयों का वास हो जाता है तो कभी भी दीपक से दीपक को नही जलाना चाहिए इसके साथ ही दीपक से अगरबत्ती भी नही जलाना चाहिए माना जाता है ऐसे में घर मे दरिद्रता का वास होता है। दीपक और अगरबत्ती को अलग-अलग तिल्ली से जलाये। हमेशा पूजा को दौरान दो दीपक जलाये एक घी का तो दुसरा तैल का दीपक यदि आप सुबह शाम पूजा में एक समय करते है तो इससे घर की नाकारात्मकता दुर होती है। तथा घर की सुख-समृद्धि में कई गुना वृद्धि होती है।