“बेटियां अनमोल है” के सन्देश के साथ बागड़ी चला पैदल सिंग्णापुर



बीकानेर। “बेटियां अनमोल है” का सन्देश जन-जन तक पहुंचाने बीकानेर का एक युवक पैदल ही महाराष्ट्र के शनिधाम सिंग्णापुर के लिए रवाना हो गया। कमजोर कद काठी का दिखने वाला नटराज बागड़ी लगभग 1400 किलोमीटर की ये पद यात्रा 80 दिनों में पूरी करेगा। राह में विभिन्न पड़ावों पर बेटी बचाओ के कार्यक्रमों में शिरकत करते हुए आम जन को कन्या भ्रूण ह्त्या के खिलाफ लामबंद करने का प्रयास करेगा। सोमवार को स्वास्थ्य भवन में स्वास्थ्य निदेशालय जयपुर से पधारे परियोजना निदेशक मातृत्व स्वास्थ्य डॉ. तरुण चौधरी व सीएमएचओ डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने बागड़ी का अभिनन्दन कर यात्रा के लिए रवाना किया। इस अवसर पर लेखाधिकारी विजयशंकर गहलोत, पीसीपीएनडीटी समन्वयक महेंद्र सिंह चारण, आशा समन्वयक रेणू बिस्सा व मालकोश आचार्य उपस्थित रहे। डॉ. तरुण चौधरी ने बागड़ी के जूनून की प्रशंसा करते हुए उसकी यात्रा की सफलता की कामना की सीएमएचओ डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने आर्थिक रूप से कमजोर होते हुए भी बागड़ी का बेटी बचाओ ब्रिगेड के सच्चे सिपाही के रूप में निःस्वार्थ योगदान को प्रेरणास्प्रद बताया। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग किसी भी व्यक्ति या संस्था स्तर पर हो रहे ऐसे सभी प्रयासों का पूर्ण समर्थन और प्रोत्साहन करता है। अपनी बहनों को अपना प्रेरणास्रोत मानने वाले बागड़ी गत वर्ष भी बेटी बचाओ सन्देश को लेकर अमरनाथ की पदयात्रा कर चुका है।